पीएम मोदी ने इन पार्टियों का खत्म कर दिया था वजूद, अब ऐसे लेंगी बदला

Lucknow: आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे सभी राजनीतिक दलों को चुनाव का बेसब्री से इंतजार है, लेकिन विपक्षी दल सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी को उखाड़ फेंकने की जुगत में हैं। हालांकि अब ये देखना होगा कि चुनाव के बाद भाजपा सत्ता में रहती है या किसी और दल को बहुमत मिलेगा। आगामी लोकसभा चुनाव में महज कुछ माह का ही वक्त बचा है तो ऐसे में पुराने लोकसभा चुनाव की बात न की जाए तो सब अधूरा लगता है। दरअसल, बीते लोकसभा चुनाव 2014 में भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस को बुरी तरह से पराजित कर सत्ता पर कब्जा जमाया था। इस चुनाव में मोदी लहर इस कदर थी कि कांग्रेस ही नहीं तमाम राजनीतिक दलों का अस्तित्व ही मिट गया था। मोदी लहर के चलते उत्तर प्रदेश में बड़ी पार्टियों में शुमार बहुजन समाज पार्टी का अस्तित्व खतरे में पहुंच गया था, क्योंकि 2014 के चुनाव में बसपा को एक भी सीट नहीं मिली थी।

अजब गजब: मृत महिला के गर्भाशय से पैदा हुआ बच्चा!

यही नहीं, राष्ट्रीय लोकदल को भी काफी नुकसान हुआ था। चौधरी अजीत सिंह की पार्टी राष्ट्रीय लोकदल का पश्चिमी यूपी में खासा वर्चस्व है, लेकिन मोदी लहर ने सब मिटा कर रख दिया। सबसे खास बात ये रही कि खुद अजीत सिंह और उनके बेटे जयंत चुनाव हार गए। वहीं, हरियाणा जनहित कांग्रेस भी मोदी लहर के चलते 0 पर आ गई। जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस भी सभी लोकसभा सीट पर चुनाव हार गई। झारखण्ड विकास मोर्चा भी मोदी लहर के कहर से नहीं बच पाई। इन सभी पार्टियों का लोकसभा से पत्ता साफ हो गया। इन दलों का बोलबाला समाप्त हो गया था।

हालांकि अब इन पार्टियों ने सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी से बदला लेने का मन बना लिया है। ऐसे में ये सभी दल एकजुट होकर भाजपा को हराने के लिए रणनीति बनाने में लगे हुए हैं। हरियाणा जनहित कांग्रेस ने तो कांग्रेस में विलय कर लिया है जबकि बसपा, रालोद, नेशनल कॉन्फ्रेंस एकजुट होकर गठबंधन की तैयारी में हैं। हालांकि अभी इसका औपचारिक ऐलान नहीं हुआ है। अब ये देखना होगा कि क्या ये दल मोदी से टक्कर ले पाएंगे। खैर जो भी चुनाव बाद स्थितियां साफ हो जाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *